क्रिकेटर टी नटराजन जीवनी (T Natarajan Biography )

7
949

टी नटराजन भारत के अभरते गेंदबाज । भारतीय प्रिमियर लीग (IPL) में यार्कल किंग के नाम से मशहूर भारतीय गेंदबाज । टी नटराजन एक भारतीय क्रिकेटर है जो आईपीएल अर्थात इंडियन प्रीमियर लीग में खेलते हैं । वर्ष 2020 के आईपीएल मैचों में टीम हैदराबाद के तरफ से खेलते हुए सुरूवाती मैचों में ही क्रिकेट प्रेमियों का ध्यान अपनी ओर आकर्षित किया है । वे अपनी यार्कल गेंदबाजी से बल्लेबाजों को काफी परेशान करते हैं तथा अपनी गेंदबाजी की वजह से वे काफी प्रचलित हैं ।

नाम टी नटराजन
जन्म तिथि (DOB) 27 मई 1991
जन्म स्थल सलेम, तमिलनाडु, भारत
व्यवसाय क्रिकेटर ( गेंदबाज)
खेल स्टाइल बाएं हाथ के मध्यम – तेज गेंदबाज
डेब्यू 5 जनवरी 2015
राष्ट्रीयता भारतीय
वैविवाहिक स्थित अविवाहित

प्रारंभिक जीवन (Early Life)

टी नटराजन का जन्म 27 मई 1991 में तमिनाडु के एक छोटे से गांव चिन्नपमपत्ती (Chinnappampatti)  में हुआ था । वे बाकी क्रिकेटरों से भिन्न हैं क्योंकि वे एक मध्यम वर्ग परिवार से हैं । उनके पिता एक कपड़े के मिल में काम करते थे तथा उनकी माता भी सड़क किनारे फूड स्टॉल खोलती थी । इस तरह के परिवार एक सितारे ने जन्म लिया और आज अपने माता – पिता का नाम पूरे भारत में मशहूर कर रहे हैं टी नटराजन ।

इनका पूरा नाम है । ये 5 भाई बहन हैं अर्थात इनकी 3 बहनें और एक भाई भी है । एक इंटरव्यू में उन्होंने बताया था कि उनका बचपन बहुत कठिनाइयों से होकर गुजरा है । कुछ सालों पहले वे केवल एक टेनिस प्लेयर थे उन्हें कोई पहचानता भी नहीं था मगर उन्हें ए. जयप्रकाश जैसे एक महान गुरु मिले जिन्होंने उनकी काबिलियत को समझी और उन्हें क्रिकेट संबंधित उचित शिक्षा और अभ्यास से कुशल बनाया । जहां इनके पास क्रिकेट किट न थी और अभ्यास भी टेनिस बाल से करते थे उसे सही मार्ग दिखाया और यह सपना 2017 में साकार होती नजर आईं जब किंग्स 11 पंजाब (KXIP) ने इन्हें 3 करोड़ रुपए में आईपीएल में खरीदा ।

इन्होंने इस पैसों का उपयोग अपनी बहनों की अच्छी शिक्षा के लिए किया साथ ही कई अनेकों अच्छे काम करके इन पैसों सा सदुपयोग किया । उन्होंने एक क्रिकेट एकेडमी भी खोली जहां सभी को मुक्त में अच्छी ट्रेनिंग दी जाती है । यह एकेडमी  सुबह 7 बजे से शाम के 7 बजे तक खुलती है ।

क्रिकेट कैरियर की शुरुआत

इनका प्रारंभिक जीवन काफी कठिनाइयों से गुजरा इसके बावजूद भी इन्होंने खेलना नहीं छोड़ा और इनपर नजर ए. जयप्रकाश की पड़ी, जो इनके लिए गुरु द्रोणाचार्य समान साबित हुए । इन्हे अच्छी ट्रेंनिग दी तथा इनकी काबिलियत को आगे लाने के लिए उन्हें चेन्नई भेजा, जहां डोमेस्टिक टूर्नामेंट चल रहा था। कोच ए. जयप्रकाश ने न केवल उन्हें चेन्नई भेजने में मदद की बल्कि चेन्नई में कुछ दिन ठहरने का भी बंदोबस्त किया ।

वे पहली बार 2011 में तमिनाडु की ओर से बेंगलुरु के विरुद्ध अपना पहला घरेलू मैच खेला । उन्होंने इस खेल में अच्छा प्रदर्शन दिखाया जिस कारण से वर्ष 2012 में उनके अच्छे प्रदर्शन को देखते हुए “जोली रोवर्स” क्रिकेट एकेडमी के प्रशिक्षक की नजर इनपर पड़ी तथा उन्हें उनके क्लब की ओर से खेलने के लिए आमंत्रित किया गया और ऐसे अवसर को वे भला हाथ से कैसे जाने दे सकते थे । वे वहां जाकर अच्छी प्रशिक्षण लेने लगे ।  इस तरह कई डोमेस्टिक टूर्नामेंट में इनकी प्रदर्शन को देखते हुए आईपीएल 2017 में पंजाब की टीम के द्वारा इन्हें 3 करोड़ में खरीदा गया ।

घरेलू मैच (Domestic match)

घरेलू मैच किसी भी क्रिकेटर के सफलता के मार्ग की पहली सीढ़ी होती है जिसपर यदि सफलतापूर्वक सही कदम रखे तो आपकी अच्छी भविष्य कि उम्मीद बढ़ जाती है । इन्होंने अपने घरेलू मैच कि सुरवात 5 जनवरी 2015 को टीम तमिलनाडु कि ओर से रणजी ट्रॉफी में किया था । इसके अलावा उन्होंने अपना पहला T-20 घरेलू मैच तमिलनाडु इंटर स्टेट टूर्नामेंट 29 जनवरी 2017 को खेला ।

आईपीएल (IPL)

आईपीएल में इन्होंने प्रवेश 2017 में ही ले लिया था जब किंग्स 11 पंजाब ने इन्हें 3 करोड़ में खरीद लिया था । इसके बाद 2018 में इन्हें सन राइजर हैदराबाद ने 40 लाख रुपए में खरीदा । 2020 के आईपीएल में ये काफी चर्चे में हैं खास कर इनके योरकल गेंदबाजी की वजह से ।

ये भी पढ़ें –

 

7 COMMENTS

  1. आपने उभरते क्रिकेट सितारे टी नटराजन के बारे में जितना हो सकता है उतनी अच्छी जानकारी दी है। आप ऐसे ही तरक्की करते रहो भाई ।

  2. आपने बहुत ही अच्छी बायोग्राफी लिखी है। उम्मीद है आप अपना सफर ऐसे ही आगे की ओर ले जाएगी। आपके वेबसाइट पर बेहतरीन बायोग्राफी को देखकर मैंने भी बायोग्राफी लिखनी शुरू की है।
    आपका धन्यवाद

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here